31 दिसम्बर से पहले वापी क्षेत्र के यह चेक पोस्ट हटाए गए

वापी.
दो दिन पूर्व डीजीपी की ओर से सभी चेकपोस्ट हटाने के आदेश का असर जिले में भी दिखेगा। इसके बाद दमण और सिलवासा से शराब की तस्करी रोकने के लिए जिले की सीमा पर बनाई गई चेकपोस्टों को हटाने की जानकारी दी गई है।

जिले में सिलवासा और दमण से सटे दस स्थानों पर पुलिस की चेकपोस्ट कार्यरत थी। डीजीपी शिवानंद झा के आदेश के बाद इन्हें हटा दिया गया है। मुख्य रूप से संघ प्रदेशों से शराब रोकने के उद्देश्य से बनाए चेकपोस्टों को 31 दिसंबर से पूर्व हटाने को लेकर तरह-तरह की चर्चा भी होती रही। 31 दिसंबर को शराब पीने वालों में इसे लेकर खूब चर्चा रही।


पुलिस सूत्रों के अनुसार आदेश का अमल शुरू कर दिया गया है। ज्यादातर चेकपोस्टों पर तैनात पुलिस को हटा लिया गया था। वापी के चला रोड पर भी पोस्ट बनाई गई थी, जहां दमण से आने वाले वाहनों की जांच होती थी। बुधवार को यहां भी कोई पुलिस कांस्टेबल नहीं दिखा। हालांकि जीआरडी का जवान जरूर देखे गए। पुलिस सूत्रों के अनुसार धीरे-धीरे चेकपोस्टों पर तैनात पुलिस के अलावा होमगार्ड और जीआरडी के जवानों को अन्य जगहों पर लगाया जाएगा।

हालांकि कई जगहों पर चेकपोस्टों पर सीसीटीवी कैमरे भी लगाए गए हैं। जिससे पुलिस शराब की हेराफेरी समेत अन्य अपराधों की रोकथाम के लिए नजर रखी जाएगी, लेकिन कई जगहों पर यह कैमरे बंद होने की भी जानकारी लगी है। ऐसे में कई लोग चेकपोस्टों को हटाने से शराब की हेराफेरी बढऩे की आशंका भी जताते रहे।

चेकपोस्ट बंद होंगे, पुलिस की जांच नहीं

जिले में दस चेकपोस्ट जरूर बंद किए जाएंगे, लेकिन इससे यह नहीं समझना चाहिए कि पुलिस की जांच भी बंद हो जाएगी। शराब की हेराफेरी रोकने के लिए सघनता से जांच होती रहेगी, इसमें कोताही या ढील नहीं बरती जाएगी। पुलिस टीम रेन्डम चेकिंग करेगी। इसके अलावा नियमित तौर भी जो जांच पुलिस को करनी होगी, किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सूरत में मानव तस्करी के नेटवर्क का पर्दाफाश : दिल्ली और राजस्थान पुलिस ने 125 बच्चों को मुक्त करवाया

सूरत. राजस्थान और गुजरात-राजस्थान की सीमा के गांवो से मानव तस्करी कर बच्चों को सूरत लाने के एक बड़े नेटवर्क का पर्दाफाश हुआ है। दिल्ली, राजस्थान और सूरत पुलिस ने मिलकर रविवार सुबह सूरत के पूणा इलाके में कार्रवाई करते हुए बाल मजदूरी के लिए लाए गए 125 से अधिक बच्चों […]

Subscribe US Now