किशोरी से बलात्कार करने वाले तांत्रिक को दस साल का कठोर करावास

सूरत. घर पर सफाई करने आई किशोरी के साथ बलात्कार करने के मामले में आरोपित तांत्रिक को पॉक्सो एक्ट की विशेष अदालत ने दोषी करार देते हुए दस साल के कठोर कारावास और 25 हजार रुपए जुर्माने की सजा सुना दी।

कापोद्रा विशालनगर निवासी महेन्द्रगिरी नटवरगिरी गोस्वामी खुद को मामादेव का उपासक बताकर तंत्र विद्या करता था। किशोरी का मामा उसका साधक था। जनवरी 2018 में महेन्द्रगिरी की बहू की प्रसूति के कारण मामा ने किशोरी को उसके घर भेजा था। 15 जनवरी, 2018 की रात किशोरी जब सोई हुई थी, महेन्द्रगिरी उसके साथ जबरदस्ती करने लगा। किशोरी ने प्रतिकार किया तो उसने भगवान का डर दिखा कर तीन बार यौन संबंध बनाए। डरी हुई किशोरी ने उस वक्त कुछ नहीं कहा। वारदात के चार महीने बाद उसने रिश्तेदार महिला को हकीकत बताई तो मामला सामने आया। किशोरी की दादी की शिकायत पर कापोद्रा पुलिस ने बलात्कार तथा पॉक्सो एक्ट की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर महेन्द्रगिरी को गिरफ्तार कर लिया था। चार्जशीट के बाद मामले की सुनवाई पॉक्सो एक्ट की विशेष अदालत में चल रही थी। सुनवाई के दौरान सहायक लोकअभियोजक अरविंद पी.वसोया आरोपों को साबित करने में सफल रहे। कोर्ट ने अंतिम सुनवाई के बाद मंगलवार को महेन्द्रगिरी गोस्वामी को बलात्कार के लिए दोषी मानते हुए आइपीसी की धारा 376 के तहत दस साल की कैद, 25 हजार रुपए जुर्माना, पॉक्सो एक्ट की धारा 4 के तहत 7 साल की कैद 10 हजार रुपए जुर्माना और पॉक्सो एक्ट की धारा 5 तथा 6 के तहत 10 साल की कैद और 25 हजार रुपए जुर्माना तथा जुर्माना नहीं भरने पर एक साल की अतिरिक्त कैद की सजा का फैसला सुनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

"उत्तरभारतीय रेल संघर्ष समिति" निजी ट्रेन 'तेजस' का व्यापक पैमाने पर करेंगी विरोध

– उत्तर भारत के आम नागरिकों की मांग दरकिनार करने का आरोप रेल संगर्ष समिति की चेतावनी, उत्तरभारतीय को ट्रेन नहीं मिलेगी तबतक सूरत स्टेशन से कोई नई ट्रेन नहीं जाएगी” उत्तरभारतीय रेल संघर्ष समिति के संयोजक अजीत तिवारी और सह संयोजक अनूप राजपूत ने बुधवार को एक संयुक्त बयान […]

Subscribe US Now